एक से अधिक Bank में Account है तो हो जाएं सावधान कटेंगे अनगिनत पैसे, जाने नए नियम

यदि आपके पास भी एक से अधिक बैंक अकाउंट में खाता है तो यह जानकारी आपके लिए बेहद काम की है. अगर आप एक से अधिक बैंक में खाता रखते हैं तो सबसे बड़ा नुकसान तो बैंक अकाउंट को मैनेज करने का होता है. दरअसल ,अलग-अलग बैंक मेंटिनेंस चार्ज लेते हैं जैसे की डेबिट कार्ड चार्ज, SMS चार्ज, सर्विस चार्ज, मिनिमम बैलेंस चार्ज इत्यादि अन्य. यानी कि जितने बैंक बैंक में आपका खाता होगा उतने ही अधिक अलग-अलग चार्ज देने होंगे इसके अलावा अगर आप बैलेंस मेंटेन नहीं करते हैं तो इसके बदले में बैंक तगड़ा चार्ज लेता है.

यदि आपके पास एक सिंगल अकाउंट है तो आपके लिए फायदा ही फायदा है क्योंकि सिंगल बैंक अकाउंट में आइटीआर फाइल रिटर्न करना आसान होता है. इसके अलावा आपकी सारी कमाई एक ही अकाउंट में होती है. अलग-अलग बैंक अकाउंट होने से कैलकुलेशन करने में बहुत मुश्किल आती है और बड़ी हो जाती है, ऐसे में यदि आप सही जानकारी इनकम टैक्स विभाग को नहीं दे पाते तो ऐसे में आपके खिलाफ नोटिस जारी किया जा सकता है.

नए बजट में वित्त मंत्री ने क्या कहा

ek se adhik bank me hai anginat account to ho jaye savadhan nahi to katega anginat paisa

एक से अधिक बैंक अकाउंट रखने वालों की समस्याओं को देखते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारण ने नए बजट में नए सिस्टम की घोषणा की है. यदि नए नियम की बात करू तो अब सैलरी इनकम के अलावा दूसरे सोर्स से होने वाली इनकम, जैसे डिविडेंड इनकम, कैपिटल गेन इनकम , पोस्ट ऑफिस इंट्रेस्ट इनकम बैंक डिपॉजिट इंट्रेस्ट इनकम की जानकारी पहले से भरी होगी.

अभी तक टैक्सपेयर्स को इसका अलग से कैलकुलेशन करना होता था, इससे कई बार भूल जाने के कारण उसे परेशानी होती थी अब ये तमाम जानकारी पहले से भरी हुई आएगी। यह जानकारी PAN कार्ड की मदद से हासिल की जाएगी।

Loanpaye follow on google news

हर महीने मिलेंगे 50 हजार रूपये, बस करें ये काम

आधार कार्डधारकों को लगा तगड़ा झटका

आईटीआर फाइल करने की डेडलाइन करीब

ध्यान देने वाली बात यह भी है, की अगर किसी सेविंग अकाउंट या करंट अकाउंट में एक साल तक किसी तरह का ट्रांजैक्शन नहीं किया जाता है तो वह बैंक खाता निष्क्रिय कर दिया जाता है.

दो सालों तक ट्रांजैक्शन नहीं होने पर वह Dormant Account या Inoperative में बदल जाता है, ऐसे बैंक अकाउंट के साथ फ्रॉड की संभावना बढ़ जाती है। वही प्राइवेट बैंकों का मिनिमम बैलेंस चार्ज बहुत ज्यादा होता है, जैसे HDFC Bank का मिनिमम मेंटेन बैलेंस 10 हजार रुपये है, ग्रामीण इलाकों के लिए यह 5000 रुपए है। यह बैलेंस मेंटेन नहीं करने पर एक तिमाही की पेनाल्टी 750 रुपये है। इसी तरह का चार्ज अन्य प्राइवेट बैंकों का भी है.

Follow On Google News 👉CLICK HERE
Follow On YouTube 👉CLICK HERE
Join On Telegram (New Update)🔥CLICK HERE
Follow On Facebook 👉CLICK HERE
Web Portal (Loanpaye) 👉CLICK HERE
Instant Personal Loan 👉CLICK HERE
Credit Card ALL Info 👉CLICK HERE
Insurance ALL Info 👉CLICK HERE

Leave a Comment